Top Letters
recent

Business

videos

महिलाओं के नाम खुला ख़त, खुश रहना है तो ये 7 बातें हमेशा के लिए गांठ बांध लें

- सुनीता पाण्डेय प्यारी स्त्रियों, एक मित्र ने मेरे विचार उन महिलाओं के बारे में जानने चाहे जो सब कुछ अपने भीतर छुपा लेती हैं. मतलब अ...
Read More

प्रेमी के नाम एक प्रेमिका का पहला खत, मेरे लिए अब कोई जंग जीतना बाकी नहीं रहा

प्रिय,  मेरी तरफ से तुम्हारे लिए यह पहला खत है। मगर फिर भी मैं इसे पहला नहीं कहूंगी क्योंकि इससे पहले लिखे सारे खत मुहब्बत की जमीं में ...
Read More

पति की एक्स गर्लफ्रेंड के नाम साइंस की एक प्रोफेसर का ख़त, कमजोर तुम हो, मैं नहीं

हेलो माय डियर, मेरे पति का तुम्‍हारे साथ अफेयर खत्‍म हुए अभी कुछ महीने ही हुए हैं। तुमको शायद यकीन न हो, इस रिश्‍ते ने पूरे परिवार को त...
Read More

दस साल की इंदिरा के नाम नेहरू की चिट्ठी, यह संसार एक खूबसूरत किताब की तरह है

प्रिय इंदिरा,  जब तुम मेरे साथ रहती हो तो अकसर मुझसे बहुत-सी बातें पूछा करती हो और मैं उनका जवाब देने की कोशिश करता हूँ। लेकिन, अब, ज...
Read More

'न्यू इंडिया' के नागरिक का ख़त PM मोदी के नाम, अब 'अच्छे दिन' बर्दाश्त नहीं हो रहे हैं

-अतुल सक्सेना 'बागी' आदरणीय मोदी जी, यहाँ कुछ कुशल नहीं है, पर आशा करता हूँ आप कुशल पूर्वक होंगे. मोदी जी, बहुत दिन से नौकरी ...
Read More

ब्रिटिश लेबर पार्टी के अध्यक्ष प्रो. हेराल्ड लास्की के नाम लोहिया की एक ऐतिहासिक चिट्ठी

प्रिय प्रो. लास्की, अभी मेरे देश ने आपकी संसद के प्रश्नकाल के बारे में जाना है। मैं आपको बताने जा रहा हूँ जिसके बारे में आप नहीं जानते...
Read More

गांधीजी के नाम चिट्ठी, तब गोडसे 'राष्ट्रीय हीरो' होगा, 30 जनवरी 'गौरव दिवस' कहलाएगा

- हरिशंकर परसाई यह चिट्ठी महात्मा मोहनदास करमचंद गाँधी को पहुंचे. महात्माजी, मैं न संसद-सदस्य हूँ, न विधायक, न मंत्री, न नेता. इनमें स...
Read More

कंगना के नाम सोना महापात्रा का खुला ख़त, पब्लिसिटी के लिए सर्कस मत करो

'प्रिय कंगना,  आपकी फिल्म 'क्वीन' को मिली कामयाबी से काफी पहले से मैंने हमेशा निजी और सार्वजनिक रूप से आपकी तारीफ़ की है, ल...
Read More

बाबा गुरमीत राम रहीम की गिरफ्तारी से दुखी एक महिला समर्थक का खुला ख़त

अदालत में चल रहे इस मामले को लेकर हमें यकीन था कि बाबा राम रहीम इंसान इससे बच जाएंगे। आखिर हमारे डेरा प्रमुख जब इतनी बच्चियों की परवरिश ...
Read More

दै. हिंदुस्तान के एडीटर को खुला ख़त, कोई संपादक इतना निर्लज्ज कैसे हो सकता है?

-नवीन कुमार आदरणीय शशि शेखर जी, नमस्कार, बहुत तकलीफ के साथ यह पत्र लिख रहा हूं। पता नहीं यह आप तक पहुंचेगा या नहीं। पहुंचेगा तो तवज्...
Read More

Techonlogy

Gallery

.
Powered by Blogger.