Top Letters
recent

गुरमीत राम रहीम की घिनौनी करतूतें बयां करने वाली गुमनाम साध्वी की यह चिट्ठी आप भी पढ़िए

श्रीमान जी,

मैं पंजाब की रहने वाली हूं और अब पांच साल से डेरा सच्चा सौदा सिरसा में साधु लड़की के रूप में कार्य कर रही हूं. सैकड़ों लड़कियां भी डेरे में 16 से 18 घंटे सेवा करती हैं. हमारा यहां शारीरिक शोषण किया जा रहा है. मेरे परिवार के सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं, जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साध्वी बनी थी. साध्वी बनने के दो साल बाद एक रात 10 बजे मुझे महाराज की गुफा (महाराज के रहने के स्थान) में भेजा गया. पहले मैं बाबा राम रहीम की मंशा से परिचित नहीं थी इसलिए खुशी खुशी उनके निवास स्थल में चली गई. वहां मैंने देखा महाराज बेड पर बैठे हैं. हाथ में रिमोट है, सामने टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है. बेड पर सिरहाने की ओर रिवॉल्वर रखा हुआ है.

महाराज ने टीवी बंद किया, मुझे साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है. महाराज ने मेरे को बांहों में लेते हुए कहा कि तुमने साधु बनते वक्त तन मन धन सतगुरु को अर्पण करने को कहा था. सो अब ये तन मन हमारा है. मेरे विरोध करने पर उन्होंने कहा कि कोई शक नहीं, हम ही खुदा हैं. जब मैंने पूछा कि क्या यह खुदा का काम है, तो उन्होंने कहा श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं. जिनसे वह हर रोज प्रेम लीला करते थे. फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं.

इसे भी पढ़ें...
हिंदू धर्म की तारीफ़ में दो शब्द, आप भी जरूर पढ़िए, फिर गर्व स‌े कहिए "मैं हिंदू हूं" 

बाबा ने मुझसे से कहा कि तु्म्हारे घर वाले हर प्रकार से हमारे पर विश्वास करते हैं. वो सब हमारे गुलाम हैं. वह हमारे से बाहर जा नहीं सकते. हमारी सरकार में बहुत चलती है. हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री हमारे चरण छूते हैं. नेता हमसे समर्थन लेते हैं, पैसा लेते हैं और हमारे खिलाफ कभी नहीं जाएंगे.

हम तुम्हारे परिवार से नौकरी पर लगे सदस्यों को बर्खास्त करवा देंगे. सभी सदस्यों को मरवा देंगे और सबूत भी नहीं छोड़ेंगे. ये तुझे अच्छी तरह पता है कि हमने पहले भी डेरे के प्रबंधक को खत्म करवा दिया था, जिनका आज तक अता-पता नहीं है। ना ही कोई सबूत बकाया है। पैसे के बल पर हम सरकार, पुलिस और न्याय को खरीद लेंगे. इस तरह मेरे साथ मुंह काला किया गया और पिछले तीन माह में 20-30 बार किया जा रहा है.

आज मुझको पता चला कि मेरे से पहले जो लड़कियां रहती थीं, उन सबके साथ मुंह काला किया है। डेरे में मौजूद 35 से 40 साधु लड़की 35-40 वर्ष की उम्र से अधिक है, जो शादी की उम्र से निकल चुकी हैं। उन्होंने परिस्थितियों से समझौता कर लिया है, इनमें ज़्यादा लड़कियां बीए, एमए, बीएड पास हैं। घरवालों के कट्टर अन्धविश्वासी होने के कारण नरक का जीवन जी रही हैं। हमें सफेद कपड़े पहनना, सिर पर चुन्नी रखना, किसी आदमी की तरफ आंख ना उठाकर देखना, आदमी से पांच-दस फुट की दूरी पर रहना महाराज का आदेश है। हम दिखाने के लिए देवी हैं, मगर हमारी हालत वेश्या जैसी है.

इसे भी पढ़ें...
सुनिए जैन मुनि तरुण सागर जी, दिगम्बर होने का मतलब सिर्फ कपड़ों को त्याग देना नहीं है

मैंने एक बार अपने परिवार वालों को बताया कि यहां डेरे में सब कुछ ठीक नहीं है तो मेरे घर वाले गुस्से में कहने लगे कि अगर भगवान के पास रहते हुए ठीक नहीं है, तो ठीक कहां है. तेरे मन में बुरे विचार आने लग गए हैं। सतगुरु का सिमरन किया कर मैं मजबूर हूं। यहां सतगुरु का आदेश मानना पड़ता है। यहां कोई भी दो लड़कियां आपस में बात नहीं कर सकती, घर वालों को टेलीफोन मिलाकर बात नहीं कर सकतीं.

पिछले दिनों जब बठिण्डा की लड़की ने जब महाराज की काली करतूतों का सभी लड़कियों के सामने खुलासा किया तो कई साधु लड़कियों ने मिलकर उसे पीटा. कुरुक्षेत्र जिले की एक साधु लड़की जो घर आ गई है, उसने घर वालों को सब कुछ सच बता दिया है. उसका भाई बड़ा सेवादार था. संगरूर जिले की एक लड़की जिसने घर आ कर पड़ोसियों को डेरे की काली करतूतों के बारे में बताया तो डेरे के सेवादार गुंडे बंदूकों से लैस लड़की के घर आ गए. घर के अंदर कुण्डी लगाकर धमकी दी.


इन सब लड़कियों के साथ-साथ मुझे भी मेरे परिवार के साथ मार दिया जाएगा, अगर मैं इसमें अपना नाम लिखूंगी…हमारा डॉक्टरी मुआयना किया जाए ताकि हमारे अभिभावकों को और आपको पता चल जाएगा कि हम कुमारी देवी साधू हैं या नहीं. अगर नहीं तो किसके द्वारा बर्बाद हुई हैं.
[अगर आप भी लिखना चाहते हैं कोई ऐसी चिट्ठी, जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो हमें लिख भेजें- merekhatt@gmail.com. हमसे फेसबुकट्विटर और गूगलप्लस पर भी जुड़ें]
My Letter

My Letter

Powered by Blogger.