Top Letters
recent

IIT इंट्रेंस की तैयारी कर रहे बच्चों के अभिभावकों को कोटा के कलेक्टर की भावुक चिट्ठी

प्रिय अभिभावकों,

कोटा शहर ने मुझे यह स‌ौभाग्य दिया है कि मैं यहां पढ़ने आए आपके बच्चों का स्वागत करता हूं। यहां पढ़ने आए बच्चे भविष्य में सफल होकर आधुनिक भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाते हैं। स‌बसे पहले तो आप स‌बसे मेरी गुजारिश है कि इस खत को धैर्य से और पूरा समय देकर पढ़ें। ज्यादा अच्छा होगा कि अपने बच्चों के साथ बैठकर पढ़ें।

इसे भी पढ़ें...

अभिभावकों, शिक्षकों और छात्रों के नाम एक खुली चिट्ठी

हर मां बाप का सपना होता है कि उनका बच्चा कामयाबी की ऊंचाइयों को छुए और वहां पहुंचे जहां कम लोग ही पहुंच पाते हैं। हर मां-बाप के दिमाग में बच्चों के भविष्य को लेकर एक बीज प्रस्फुटित होता है। उन्हें पूरा विश्वास होता है कि वो बीज एक मीठे फल का आकार लेगा। मां-बाप के लिए अपने बच्चे को ऎसे शहर में छोड़ना आसान नहीं होता, जहां वो खुद अपने बच्चों के स‌ाथ नहीं रहते।

इसे भी पढ़ें...

स‌रकारी स्कूल के टीचर के नाम एक पूर्व छात्र की चिट्ठी 

खुदकुशी करने वाले बच्चों के माता पिता को भी उनसे बड़ी उम्मीदें थीं। अपेक्षाओं के बोझ तले बनावटी दुविधा में जीने के बजाय उन्होंने मौत को गले लगाना आसान समझा। यह बहुत तकलीफदेह है। बच्चों को बेहतर प्रदर्शन के लिए डराने धमकाने या फिर अपेक्षाओं का बोझ लादने की जगह आपके सांत्वना के बोल जरूरी हैं। नतीजों को भूलकर बेहतर करने के लिए प्रेरित करना, मासूम कीमती जानें बचा सकता है।


क्या माता पिता को बच्चों की तरह अपरिपक्वता दिखानी चाहिए? ऐसा नहीं होना चाहिए। अपनी अपेक्षाओं और सपनों को जबरन अपने बच्चों पर नहीं थोपें, बल्कि बच्चे जो करना चाहते हैं, जिसे करने के काबिल हैं उन्हें वही करने दें। उनकी क्षमता के लिए उन्हें प्रोत्साहित करें।

इसे भी पढ़ें...

माता-पिता के नाम खुला ख़त, बोर्ड परीक्षा में हाई परसेंटेज के आगे जहां और भी है 

आपको अपने बच्चों को इंजीनियरिंग और मेडिकल को करियर बनाने के अलावा अन्य विकल्पों की ओर भी ध्यान देना चाहिए। इस साल जनवरी में भी छात्रों और अभिभावकों के नाम पत्र लिखा था और उनसे कहा था कि जीवन बहुत खूबसूरत है। महज परीक्षा पास कर लेना ही सबकुछ नहीं होता। मैं चाइल्ड मैनेजमेंट का एक्सपर्ट नहीं हूं, लेकिन अपने अनुभव के आधार पर यह सब लिख रहा हूं। मेरी ख्वाहिश है कि आप दुनिया के सबसे बेहतर पैरंट्स बनें। मैं यकीन के साथ कह सकता हूं कि ऐसा करने में कोई कंपटीशन नहीं है। 

रवि कुमार 
जिला कलेक्टर, कोटा 
Myletter

Myletter

Powered by Blogger.