Top Letters
recent

'अब मुझे भाजपा प्रचारक से फिर PM बनना पड़ेगा, विदेश मंत्रालय भी तो संभालना होगा'

- मिथुन प्रजापति

प्रिय मित्र
दूधनाथ त्रिपाठी
प्रेजिडेंट अमेरिका

मित्र, अत्र कुशलं ,तत्रास्तु। इधर चुनाव में व्यस्त होने के कारण कुछ दिन से आप से संपर्क नहीं हो पाया लेकिन यह जानकर बेहद खुशी है कि यहाँ की तरह वहां भी राष्ट्रवाद चरम पर है। आपके यहाँ 'indian go back' का नारा बुलंद है और हमारे यहाँ  'पाकिस्तानी भारत छोड़ो ' का। सार एक ही है ..लगे रहो मित्र।

इन दिनों मैंने बहुत सी चीजों को समझा है। कुछ नया सीखा है। जनता की नब्ज़ को पकड़ा है। जनता क्या है ! उसे किस चीज की जरूरत है और क्या चाहिए, यह जाना है। जिनके रहने को घर नहीं है, वे ज्यादा जोर से कहते हैं हिंदुस्तान हमारा है। सोशल मीडिया पर मैंने एक पोस्ट पढ़ी जिसमें लिखा था; मोदी जी, स्कूल और अस्पताल के लिए जमीन चाहिए तो दस बीघा मुझसे ले लीजिए लेकिन मंदिर अयोध्या में ही बनना चाहिए। मैंने उस पोस्ट को लिखने वाले का खाका निकलवाया तो पता चला वह चौराहे पर पान बेचता है और माँ सरकारी स्कूल में खाना बनाती है। मुंह से बस इतना निकला- जियो मेरे लाल।

इसे भी पढ़ें...

देशभक्ति को इतना सस्ता ना बनाएं कि हर कोई, गली-नुक्कड़ पर इसकी दुकान सजाने लग जाए

सब तो ठीक है, कभी- कभी चिंता होने लगती है। भारत लगभग कांग्रेस मुक्त हो चुका है। आधे कांग्रेसियों को तो हमनें भाजपाई बना दिया बाकी जो बचे, चैत के गेंहूँ की तरह सूख गए। देश लगभग भगवामाय हो चुका है। वह दिन भी आएगा जब सिर्फ भगवा ही दिखेगा लेकिन चिंता यह है कि फिर हम और अमित क्या करेंगे !! करने के लिए तो कुछ होगा ही नहीं ! खैर छोडो यार... यह तो तब की बात है ...आओ अभी का देखें।

मुझे यह देखकर हैरानी होती है कि तुम्हारे द्वारा लिए गए हर फैसले पर वहाँ की कोर्ट रोक क्यों लगा देती है !! तुम ही तो सर्वेसर्वा हो शांत कैसे बैठ जाते हो कोर्ट के फैसले पर?  हमारे यहाँ देखो, कोर्ट ने राममंदिर जैसे संवेदनशील मुद्दे पर कहा - भाई, अब काहें का डर, बाहर ही निपट लो। आखिर बहुमत भी तो कोई चीज है !!

मौसम बड़ा दर्दीला है। पीले कबूतर का हलवा खाने का दिल हो रहा है और शुतुरमुर्ग के अंडे पर खड़े होकर दुनिया देखने को जी चाह रहा है। जैसे नोटबंदी सफल हुई वैसे ये इच्छाएं भी पूरी हो जाएं तो क्या कहना ! बाकी आने वाले दिनों में व्यस्तता बढ़ जायेगी। भाजपा प्रचारक से एक बार फिर PM बनना पड़ेगा और विदेश मंत्रालय भी तो संभालना होगा। हो सकता है अगला पत्र विलम्ब से लिखूँ ..हाँ , भाभी जी  को प्यार कहना ....बच्चों को आशीष ..... और पत्र का जवाब शीघ्र देना।
       
तुम्हारा
न● दा● मोदी
भाजपा  स्टार प्रचारक
एवं विदेश मंत्री भारत
[अगर आप भी लिखना चाहते हैं कोई ऐसी चिट्ठी, जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो हमें लिख भेजें- merekhatt@gmail.com. हमसे फेसबुकट्विटर और गूगलप्लस पर भी जुड़ें]
Myletter

Myletter

Powered by Blogger.