Top Letters
recent

बधाई योगा, तुम्हारे 'अच्छे दिन' आ गये, कोई राज में बैठकर झुक रहा है तो कोई राज पाने के लिये


डियर योगा, प्रणाम!

जानता हूं कि तुम्हारे साथ प्राणायाम चलता है लेकिन मैं सत्ताधीशों की तरह प्राणायाम करने में अभयस्त नहीं हूं, तो प्रणाम से काम चला रहा हूं. अब तो योगा का डंका पूरी दुनिया में बज गया. सूर्य के उदय की जगह से लेकर सूर्यास्त की जगह तक तुम फैल गए हो. बधाई हो, तुम्हारे तो अच्छे दिन आये! इसे कहते है दुनिया में छा जाना. पूरी दुनिया के 192 देशों में एक साथ तुम्हारा ही तप था और तप भी ऐसा वैसा नहीं, संत से लेकर फकीर, नेता से अभिनेता, सियाचिन से लेकर जापान, अमेरिका हर तरफ, चारो तरफ योगा ही योगा. तुम्हारा क्रेज तो देखो प्रधान सेवक जी ने तुम्हारे चक्कर में लोगों के साथ सेल्फी लेने से मना कर दिया. वाह योगा वाह!

तुम्हारा चमत्कार यहीं नहीं खत्म होता. तुमने तो वो काम कर दिखाया जो इस देश की जनता इन नेताओं से नहीं करवा पाई. देश में बिना किसी चुनाव के ये नेता लोग अपना सिर झुका रहे थे. बिना चुनाव इस देश की जनता के साथ लंबी लबी सांसें ले रहे थे. जनता के साथ जनता के ही बीच कोई चक्रासन कर रहा था तो कोई अनुलोम-विलोम, वो भी बिना किसी चुनावी बेला के. कोई राज में बैठ कर योग कर रहा था तो कोई राज पाने के लिये योग का संयोग बैठाने की जुगत में था. जी भरकर राजनीति होने के बाद भी तुम पर राजनीति न करने का राग अलापा जा रहा था.

इसे भी पढ़ें...
मोदी जी अब तो खुश हैं आप? दुनिया भर में 'भारत माता की जय' हो रही है!

सरकार ने तो तुम्हारे लिये राज पथ को तुम्हारा पथ यानि योगपथ बना दिया. 35 हजार से ज्यादा लोगों ने एक साथ मिलकर योगा करने का विश्व रिकॉर्ड बना डाला और एक साथ 84 देशों के लोगों द्वारा योगा करने का एक और रिकॉर्ड देश के झोली में डाल दिया. कितना कुछ नहीं किया योगा तुमने इस देश के लिये, इस दुनिया के लिये. 5000 साल पहले से लेकर अब तक तुम एक लंबा सफर तय कर चुके हो. लेकिन विश्व में तुम नमो सरकार की बदौलत छा पाये गुरु. यूएन महासभा में योग दिवस के प्रस्ताव पर 177 देशों का समर्थन हासिल कर सरकार ने तुम्हारे अच्छे दिन लाने की तरफ बङा कदम उठाया था और 21 जून को विश्व योग दिवस पर 192 देशों में योगा कार्यक्रमों का आयोजन करवा कर तुम्हारे विकास के प्रति अपनी प्रतिबद्धता साबित कर दी.


योगा दिवस को सफल बनाने के लिये हरियाणा के ब्रांड अंबेसडर और योगी बाबा रामदेव ने भी काला धन वापस लाने की राग छोङकर सरकार के योगा दिवस के आयोजन के सुर में सुर मिलाने शुरु कर दिये. योग दिवस से पहले हरियाणा के मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों को योग सिखाया और विश्व योग दिवस के दिन राजपथ या यूं कहे कि योगपथ पर प्रधानमंत्री समेत हजारों लोगों से योग करवाया. योगी रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण के जिम्मे हरियाणा की सेहत सुधारना सौंप दिया. वहीं यूएन में लोगों से आसन और प्राणायाम कराने की जिम्मेदारी श्री श्री रविशंकर के जिम्मे थी. श्री श्री रविशंकर ने यूएन में सुषमा स्वराज के साथ योग दिवस के कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

इसे भी पढ़ें...

महादेव होते तो कहानी नमक मिर्च लगा के सुनाते लेकिन मैं सीधे प्वाइंट पर आता हूँ

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार के एक ब्लॉग के अनुसार केन्द्र सरकार की वेबसाइट पर महीने भर चलने वाले योग शिविर के 651 केन्द्रों की सूची में 191 योग शिविर रामदेव की पतंजलि योगपीठ के हिस्से में आये है और दूसरे नंबर पर श्री श्री रविशंकर की संस्था व्यक्ति विकास केंद्र के हिस्से में 69 शिविर आये हैं. हर एक शिविर के लिये सरकार की तरफ से एक लाख की सहायता का प्रावधान है. तो क्या रामदेव को चुनाव में मोदी की मदद का फायदा मिला है. योग दिवस के पहले और योग दिवस पर सिर्फ रामदेव ही छाये रहे थे. तो योगा तुम्हे समर्पित दिन को खास बनाने में बाबा रामदेव का भी योगदान है. तो उन्हे थैंक्स बोलना मत भूलना.

ये तो अभी शुरुआत है. स्वच्छ भारत होने के बाद लोगों को स्वस्थ बनाना जरुरी हो गया है. कोई श्वासन करके स्वस्थ हो रहा है तो कोई ट्विटासन करके किसी दूसरे की छवि को बिगाङ रहा है. लेकिन धीरे धीरे सब ठीक हो जायेगा. योगा करते करते अगले बरस तक तो काफी कुछ हो चुका होगा और मुझे माफी क्योंकि मैं सिर्फ प्रणाम कर पाया, प्राणायाम नहीं. अगले बरस प्रणाम और प्राणायाम दोनों करूंगा, पक्का. बस जल्दी आना.

जाते जाते एक बात बता जाओ. ट्विटासन के लिये क्या सावधानियां बरतनी चाहिये और सेल्फीआसन न करने के कोई नुकसान तो नहीं है ना.
( source:dustbindubba.com)
[अगर आप भी लिखना चाहते हैं कोई ऐसी चिट्ठी, जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो हमें लिख भेजें- merekhatt@gmail.com. हमसे फेसबुकट्विटर और गूगलप्लस पर भी जुड़ें]
Myletter

Myletter

Powered by Blogger.