Top Letters
recent

शहीद की बेटी को DIG का खुला ख़त, तुम्हारे आंसुओं का हर कतरा हमारे दिलों को कचोट रहा है

जम्मू-कश्मीर पुलिस के असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर अब्दुल राशिद की पिछले साल 30 अगस्त को आतंकियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जोहरा को जब पिता के शहीद होने की खबर मिली उस वक्त वो अपने स्कूल में थी। वहां से वो घर पहुंची। पिता को अंतिम विदाई के वक्त जोहरा को रोत-बिलखते जिसने भी देखा, वो भावुक हो गया। जोहरा की भावुक करने वाली ये तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। बच्ची जोहरा की तस्वीर देखकर दक्षिण कश्मीर के डीआईजी एसपी पाणि ने उसे एक खुला ख़त लिखा था। यह ख़त डीआईजी ने फेसबुक पर भी शेयर किया था। 

प्रिय ज़ोहरा,
तुम्हारे आंसू देखकर मेरा दिल भी उतनी ही तकलीफ से गुजर रहा है। तुम्हारे पिता की शहादत कोई कैसे भूल सकता है! ये समझने के लिए तुम अभी बहुत छोटी हो कि ऐसा क्यों हुआ। वे लोग जो देश और समाज के कानून तोड़ते और मारकाट फैलाते हैं, वे जहनी तौर पर बीमार ही तो हैं। ऐसे लोग कभी भी देश की भलाई के बारे में नहीं सोच सकते हैं। हम सभी की तरह ही तुम्हारे पिता भी जम्मू कश्मीर पुलिस फोर्स से थे- उन्होंने बहादुरी और कुर्बानी की मिसाल कायम की।

इसे भी पढ़ें...
इतनी क्रूरता कहां से आ गई कि एक घायल पुलिस अधिकारी को घेर-घेर कर मार दिया गया?

हम पुलिसवालों के ऐसे कई परिवार हैं जिन्हें समाज की भलाई के लिए कितनी ही ऐसी तकलीफें झेलनी पड़ीं। उनके दर्द की, तकलीफों की भरपाई कभी नहीं हो सकती। वे तमाम चेहरे और कहानियां एक मिसाल हैं। एक ऐसा इतिहास हैं, जिन पर हमें गर्व है। हम उन लोगों को कैसे भूल सकते हैं, जिनके साथ एक साथ काम करते हुए हमने इतने साल साथ बिताए। जम्मू कश्मीर पुलिस ने समाज की भलाई के लिए जो कदम उठाए और जो मुश्किल सफर तय किया, वे सारे परिवार, उनकी नजर न आने वाली कुर्बानियां भी उस महान सफर का हिस्सा हैं। तुम ये कभी मत भूलना कि इस मुश्किल दौर में हम सभी एक परिवार की तरह हैं। तुम्हारे आंसुओं का हरेक कतरा हमारे दिलों को कचोट रहा है। ईश्वर हमें इतनी ताकत दे कि हम समाज की भलाई के अपने इस मकसद में खूब आगे बढ़ें।

इसे भी पढ़ें...

वर्दी पहनते वक्त हमने जो कसम ली थी, उससे ऊपर हमारे लिए कुछ भी नहीं। देश और समाज के लिए हमारी ये प्रतिबद्धता बदलाव की वजह बने। हमारे बलिदान हमारे साथी नागरिकों के लिए शांति और सद्भाव का पैगाम लाएं। एएसआई अब्दुल राशिद हम सबके बीच एक ऐसे पुलिस अफसर के तौर पर याद किए जाएंगे जिन्होंने अपनी जिंदगी देश के लिए कुर्बान कर दी। ईश्वर उनकी रूह को सुकून दे।

ढेर सारी दुआओं के साथ,
जम्मू कश्मीर पुलिस के सारे अफसर और जवान
Myletter

Myletter

Powered by Blogger.