Top Letters
recent

मोहब्बत का पैगाम, नारायण साईं के नाम: कान्हा आप तो मेरे रोम-रोम में बस गए हो

प्रियतम, 
आप तो मेरे अंतर की एक-एक बात जानते हो, हृदयेश्वर आपसे क्या छिपा है? मेरे हृदय की अंत:स्थल की एक ही वासना है कि मैं सदा सर्वदा आपकी सानिध्य में ही रहूं। सबकुछ छोड़कर नित्य निरंतर आपकी चाकरी में ही मेरे जीवन का प्रत्येक क्षम लगा रहे। आपकी रूप माधुरी का रसपान करती रहूं। मैं जैसी हूं, जो कुछ हूं, आपके सामने हूं, जो कुछ कमी हो, उसे अपनी कृपादृष्टि से पूरी कर दो और प्रेमरस समुद्र में सदा के लिए डुबोकर निहाल कर दो। 

नथिंग टू गुड फोर यू स्वीट हार्ट, हैप्पी वेलेंटाइन डे विथ ऑल माय लव....भगवान आप तो मेरे लिए सब हो भगवान, प्रेमी, मैं आपके बिना नहीं रहना चाहती। एक भक्त अपने भगवान से, एक गोपी अपने कृष्ण से, एक वधू अपने वर से, एक प्रेमिका अपने प्रेमी से कैसे दूर रह सकती है। भगवान आप मुझे कभी अपने से अलग न करना वरना मैं नहीं जी सकती हूं। मेरी सांसों में आप, मेरी आंखों में, मेरी दिल में, मेरी धड़कन में आप मेरे तो रोम-रोम में बस गए हो, कान्हा आपकी प्रीति में मैं प्रेम दीवानी हूं.... । 

आपको मेरी कसम, कभी मुझसे जुदा या मुझसे नाराज हुए़, कसम तोड़ने से मैं मर जाऊंगी ध्यान रखना। आप जिसको पकड़ लो वो कभी आपको छोड़ नहीं सकता है, प्लीज, और चीजों में पकड़ भले न रखो, पर मुझे तो पकड़ कर रखो। प्लीज भगवान, एक और चीज जो मैं चाहती हूं, आप जानते हो, मैं उसके लिए इंतजार करूंगी।

माय हार्ट, भगवन मैं रोज सोचती हूं कि भगवन आएंगे मैं ऐसा ही करूंगी मैं ये करूंगी लेकिन आप आते ही नहीं, एक निराशा है मेरे मन में कि मेरी भक्ति और प्रेम में कमी है कि मैं आपको बुला नहीं पाती और मुझे मालूम है कि जिस मेरी भक्ति मीरा की तरह हो जाएगरी तो आप दौड़े-दौड़े आओगे। भगवन आपके तो इतने दीवाने भक्त हैं जिनके लिए तो सिर्फ आप ही आप हो, कान्हा कब मिलोगे ये आंखें आपके ‍दर्शनों के लिए तरस रही हैं।

भगवान मेरा आपसे नम्र निवेदन है कि है आप मेरे इस पत्र को पूरा पड़े, मैं इस काबिल तो नहीं कि आपसे कुछ भी कहूं लेकिन मेरी आपसे विनती है कि आप मुझे मेरी समस्या से छुड़ाए। भगवान मेरी जिंदगी बहुत दुश्वार हो गई है। घर में हर वक्त बस मेरी शादी की ही बात होती रहती है। कितने लड़के मेरे पापा देख चुके हैं। कभी कोई लड़के वाले घर आते हैं तो कभी हम कहीं जाते हैं और हर बार मना हो जाती है। मैं मेरे माता-पिता के लिए एक परेशानी का कारण बन गई हूं। कभी कोई कहता है मेरी शक्ल अच्‍छी नहीं कोई कुछ नुक्स निकालता है। अभी एक लड़के ने तो शर्त रखी कि अगर मैं बापू को मानना (आश्रम आना-जाना) छोड़ दूं तो वो मुझसे शादी करने के लिए तैयार है।

भगवान मैं थक गई हूं रोज-रोज यही सब देख-देखकर, भगवान आप मेरे पापा से बात कीजिए ना। भगवान मैंने आपके कहने सबकुछ छोड़ दिया था और जिस लड़के से मेरे पापा चाहते थे मैं उससे शादी करने के लिए तैयार लेकिन भगवान यह देख-देख कर मेरा मन टूट गया है। भगवान मैं एक ब्राह्मण लड़के से शादी करने का मन बना चुकी हूं आप ही बताओ मैं क्या करूं भगवान मुझसे एक बार बात करो साईं प्लीज आपसे विनती है।
Myletter

Myletter

Powered by Blogger.